साहित्य

पुस्तकें
 परम पूज्य गुरुदेव का वास्तविक मूल्यांकन तो कुछ वर्षों बाद इतिहासविद, मिथक लिखने वाले करेंगे किन्तु यदि उनको आज भी साक्षात् कोई देखना या उनसे साक्षात्कार करना चाहता हो तो उन्हें उनके द्वारा अपने हाथ से लिखे गये उस विराट् परिमाण में साहित्य के रूप में-युग संजीवनी के रूप में देखा जा सकता है, जो वे अपने वजन से अधिक भार के बराबर लिख गये । इस साहित्य में संवेदना का स्पर्श इस बारीकी से हुआ...Read More
क्रान्तिधर्मी साहित्य
क्रान्तिधर्मी साहित्य-युग साहित्य नाम से विख्यात यह पुस्तकमाला युगद्रष्टा-युगसृजेता प्रज्ञापुरुष पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी द्वारा १९८९-९० में महाप्रयाण के एक वर्ष पूर्व की अवधि में एक ही प्रवाह में लिखी गयी है। प्राय: २० छोटी -छोटी पुस्तिकाओं में प्रस्तुत इस साहित्य के विषय में स्वयं हमारे आराध्य प.पू. गुरुदेव पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी का कहना था- ‘‘हमारे विचार, क्रान्ति के बीज...Read More
प्रवचन पूज्य गुरुदेव
...Read More
फोल्डर (पत्रक)
...Read More
लेख
...Read More
आर्श वाङ्मय (समग्र साहित्य)
इस संसार मे जानने योग्य अनेक बातें हैं । विद्या के अनेकों क्षेत्र हैं, खोज के लिए, जानकारी प्राप्त करने के लिए अमित मार्ग है । अनेकों विज्ञान ऐसे हैं जिनकी बहुत कुछ जानकारी प्राप्त करना मनुष्य की स्वाभाविक वृत्ति है । क्यों? कैसे ? कहाँ ? कब ? के प्रश्र हर क्षेत्र में वह फेंकता है । इस जिज्ञासा भाव के कारण ही मनुष्य अब तक इतना ज्ञान सम्पन्न और साधन सम्पन्न बना है । सचमुच ज्ञान ही जीवन का प्रकाश...Read More
संस्मरण
पुरोवाक्

    प्रातःस्मरणीय परम पूज्य आचार्य श्रीराम शर्मा जी एक ऐसे साधक, द्रष्टा, विचारक रहे हैं, जिनको व्यक्ति, परिवार, समाज और देश-विदेश में घट रही अथवा घटने वाली घटनाओं की तह में जाकर उन्हें आर-पार देखने की अलौकिक सूक्ष्म दृष्टि प्राप्त थी। वह ऐसे महापुरुष थे, जो दृश्य-अदृश्य जगत् की विविध परिस्थितियों को निमिष मात्र में भाँपकर उन्हें नियन्त्रित कर लेते थे।...Read More
प्रज्ञा गीत
आत्मीय निवेदन, समझें और लाभ उठायें
   युग ऋषि (वेदमूर्ति तपोनिष्ठ पं. आचार्य श्रीराम शर्मा) ने विचार क्रांति को गति देने के लिए संगीत को प्रवचनों की अपेक्षा अधिक प्रभावशाली बताया है।
     उनके अनुसार किसी वक्ता का प्रवचन सुनने लोग तभी इकट्ठे होते हैं, जब वह कोई प्रसिद्ध वक्ता, प्रतिष्ठित संत या ...Read More
अखण्ड ज्योति
...Read More





समग्र साहित्य


हिन्दी व अंग्रेजी की पुस्तकें
व्यक्तित्व विकास ,योग,स्वास्थ्य, आध्यात्मिक विकास आदि विषय मे युगदृष्टा, वेदमुर्ति,तपोनिष्ठ पण्डित श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने ३००० से भी अधिक सृजन किया, वेदों का भाष्य किया।
अधिक जानकारी
अखण्डज्योति पत्रिका १९४० - २०११
अखण्डज्योति हिन्दी, अंग्रेजी ,मरठी भाषा में, युगशक्ति गुजराती में उपलब्ध है
अधिक जानकारी
AWGP-स्टोर :- आनलाइन सेवा
साहित्य, पत्रिकायें, आडियो-विडियो प्रवचन, गीत प्राप्त करें
आनलाईन प्राप्त करें




वैज्ञानिक अध्यात्मवाद

विज्ञान और अध्यात्म ज्ञान की दो धारायें हैं जिनका समन्वय आवश्यक हो गया है। विज्ञान और अध्यात्म का समन्वय हि सच्चे अर्थों मे विकास कहा जा सकता है और इसी को वैज्ञानिक अध्यात्मवाद कहा जा सकता है..
अधिक पढें

भारतीय संस्कृति

आध्यात्मिक जीवन शैली पर आधारित, मानवता के उत्थान के लिये वैज्ञानिक दर्शन और उच्च आदर्शों के आधार पर पल्लवित भारतिय संस्कृति और उसकी विभिन्न धाराओं (शास्त्र,योग,आयुर्वेद,दर्शन) का अध्ययन करें..
अधिक पढें
प्रज्ञा आभियान पाक्षिक
समाज निर्माण एवम सांस्कृतिक पुनरूत्थान के लिये समर्पित - हिन्दी, गुजराती, मराठी एवम शिक्क्षा परिशिष्ट. पढे एवम डाऊनलोड करे

16
Fatal error: Cannot redeclare showShareOption() (previously declared in /home/hindi_awgp/www/theam/Gayatri/share.gurukulam.php:38) in /home/hindi_awgp/www/theam/Gayatri/share.gurukulam.php on line 38