चार आश्रम

भारतीय संस्कृति ने जीवन के हर क्षेत्र में गम्भीरता से विचार किया जाये ।। सम्पूर्ण जीवन को सौ वर्षों का मान कर २५- २५ वर्षों के चार भाग बना दिये हैं ।। प्रथम पच्चीस वर्ष शरीर, मन, बुद्धि के विकास के लिए रखे गये हैं ।। इस आश्रम का नाम ब्रह्मचर्य है ।। इन वर्षों में युवक या युवती को संयमित जीवन बिताकर आने वाले सांसारिक जीवन के उपयुक्त शक्ति- संचय करना पड़ता था । वह मूलतः एक विद्यार्थी ही होता था, जिसका कार्य प्रधान रूप से शारीरिक, मानसिक और नैतिक शक्तियाँ प्राप्त करना था ।। यह ठीक भी है, जब तक हर प्रकार की शक्तियाँ एकत्रित कर मनुष्य सुसंगठित न बने, जब तक उसकी बुद्धि और मन शरीर इत्यादि की शक्तियों का पूरा- पूरा विकास न हो, वह पूरी तरह चरित्रवान्, संयमी दृढ़ निश्चयी न बने, तब तक उसे सांसारिक जीवन में प्रविष्ठ नहीं होना चाहिए ।।

दूसरा आश्रम गृहस्थ है २५ से ५० वर्ष की आयु गृहस्थ आश्रम के लिए है ।। पति- पत्नी धार्मिक जीवन व्यतीत करते हुए पूरी जिम्मेदारी से अपने नागरिक कर्तव्यों को पालन करते थे ।। परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारी को पूरा करते थे ।। अपने व्यवसाय में दिलचस्पी लेकर आनंदमय जीवन व्यतीत करते थे ।। धर्माचरण द्वारा गृहस्थ जीवन के सुख प्राप्त करते थे धर्म, अर्थ, काम मोक्ष, आदि चारों का सुख भोग करने का विधान है ।।

उम्र ढलने पर सांसारिक कार्यों से हटना चाहिए ।। लेकिन इस पृथकता से समय लगता है ।। धीरे- धीरे भौतिक जीवन की आवश्यकताएँ कमी करनी होती है ।। अतः ५० से ७५ वर्ष तक की आयु से गृहस्थ भार से मुक्त होकर जन- सेवा का विधान है ।। इसे वानप्रस्थ कहा गया है ।। गृहस्थ जीवन की जिम्मेदारियों से मुक्ति पाना मनुष्य का मानसिक स्थिति के लिए परम उपयोगी है ।। पारमार्थिक जीवन के लिए पर्याप्त समय निकल आता है ।। वानप्रस्थ का अर्थ यह भी है कि घर पर रहते हुए ही मनुष्य ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करे, संयम का अभ्यास करे, बच्चों को विद्या पढ़ायें, फिर धीरे- धीरे अपनी जिम्मेदारी अपने बच्चों पर डालकर बाहर निकल जाये ।। पूर्ण परिपक्व व्यक्ति ही घर से बाहर संन्यासी के रूप में निकल कर जनता के हित के लिए सार्वजनिक कार्य कर सकता था ।। चिकित्सा, धर्म- प्रचार और पथ- प्रदर्शन का कार्य इन योग्यतम संन्यासियों के हाथ में ही रहता था ।। समाज उन्नति की दिशा में आगे बढ़ता था ।। आज जैसे कम उम्र के अनुभव विहीन दिखावटी धर्म प्रचारक उन दिनों नहीं थे ।। वे पैसा- कौड़ी भी न लेते थे और काम पूरे मन से करते थे ।। आज इतना व्यय करने पर भी वह लाभ नहीं होता ।। संन्यास की पहिचान भी ज्ञान ही है ।।

यह आश्रम- व्यवस्था भारतीय मनोवैज्ञानिकों की तीव्र बुद्धि कौशल की सूचक है ।। व्यवसायिक दक्षता प्राप्त करने के लिए यह आवश्यक है कि मनुष्य पूरे परिश्रम और लगन से २५ वर्ष तक तप जाने से मनुष्य आगे आने वाले जीवन के लिए मजबूत बन जाता था ।। जिम्मेदारियों, अच्छाइयों, बुराइयों को समझ जाता था ।। आश्रम- परिवर्तन तात्पर्य उसके मन में धीरे- धीरे आने वाला मानसिक परिवर्तन भी था ।। धीरे- धीरे मानसिक परिपक्वता आती थी और अगला आश्रम आसान बनता जाता था ।। चुनाव और सोचने के लिए भी पर्याप्त अवकाश प्राप्त हो जाता हाथ ऐसा भी था कि सीधे ब्रह्मचर्य से कुछ उपकारी व्यक्ति वानप्रस्थ हो जाते थे ।। और संन्यास ले लेते थे ।। तात्पर्य यह कि एक आदर्श मार्ग-दर्शन का रूप हमारे इन वर्णाश्रमों में रखा गया था ।। आज इस व्यवस्था में गड़बड़ी आ गई है ।। इस कारण तपे हुए अनुभवी वृद्ध कार्यकर्त्ता समाज को नहीं मिल रहे हैं ।। उपदेशकों और प्रचारकों में अर्थ मोह या प्रसिद्धि का मोह बना हुआ है ।।

यह आश्रमों की परम्परा जब तक हमारे देश में जीवित रही तब तक यश, श्री और सौभाग्य में यह राष्ट्र सर्व शिरोमणि बना रहा ।। श्रेय और प्रेय का इतना सुन्दर सामंजस्य किसी अन्य जाति या धर्म में मिलना कठिन है ।। हमारी कल्पना है कि मनुष्य आनंद में जन्म लेता है ।। आनंद से जीवित रहता और अन्त में आनंद में ही विलीन हो जाता है ।। मनुष्य का लक्ष्य भी यही है ।। इन आवश्यकता की पूर्ति आश्रम व्यवस्था में ही सन्निहित है ।। समाज की सुदृढ़ रचना और मनुष्य के जीवन ध्येय की पूर्ति के लिये आश्रम- व्यवस्था का पुनर्जागरण आवश्यक है ।।

(भारतीय संस्कृति के आधारभूत तत्व पृ.सं.४.२८- २९)

समग्र साहित्य


हिन्दी व अंग्रेजी की पुस्तकें
व्यक्तित्व विकास ,योग,स्वास्थ्य, आध्यात्मिक विकास आदि विषय मे युगदृष्टा, वेदमुर्ति,तपोनिष्ठ पण्डित श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने ३००० से भी अधिक सृजन किया, वेदों का भाष्य किया।
अधिक जानकारी
अखण्डज्योति पत्रिका १९४० - २०११
अखण्डज्योति हिन्दी, अंग्रेजी ,मरठी भाषा में, युगशक्ति गुजराती में उपलब्ध है
अधिक जानकारी
AWGP-स्टोर :- आनलाइन सेवा
साहित्य, पत्रिकायें, आडियो-विडियो प्रवचन, गीत प्राप्त करें
आनलाईन प्राप्त करें




वैज्ञानिक अध्यात्मवाद

विज्ञान और अध्यात्म ज्ञान की दो धारायें हैं जिनका समन्वय आवश्यक हो गया है। विज्ञान और अध्यात्म का समन्वय हि सच्चे अर्थों मे विकास कहा जा सकता है और इसी को वैज्ञानिक अध्यात्मवाद कहा जा सकता है..
अधिक पढें

भारतीय संस्कृति

आध्यात्मिक जीवन शैली पर आधारित, मानवता के उत्थान के लिये वैज्ञानिक दर्शन और उच्च आदर्शों के आधार पर पल्लवित भारतिय संस्कृति और उसकी विभिन्न धाराओं (शास्त्र,योग,आयुर्वेद,दर्शन) का अध्ययन करें..
अधिक पढें
प्रज्ञा आभियान पाक्षिक
समाज निर्माण एवम सांस्कृतिक पुनरूत्थान के लिये समर्पित - हिन्दी, गुजराती, मराठी एवम शिक्क्षा परिशिष्ट. पढे एवम डाऊनलोड करे

Download Webdoc(61)